Search This Website

Monday, 4 January 2021

Now you have control over dreams too, scientists are building a dream hacking device

अब आपके पास सपनों पर भी नियंत्रण है, वैज्ञानिक एक ड्रीम हैकिंग डिवाइस का निर्माण कर रहे हैं

Now you have control over dreams too, scientists are building a dream hacking device


हम सभी के पास सपने हैं।  कुछ सपने अच्छे होते हैं और कुछ सपने बुरे होते हैं।  सपनों पर हमारा कोई नियंत्रण नहीं है।  आप अपनी इच्छानुसार सपने नहीं देख सकते।  यदि आप निकट भविष्य में अपने सपनों को नियंत्रित कर सकते हैं तो आश्चर्यचकित न हों।  वह हाथ में एक छोटी ताबीज भी पहनती है।  जिसकी मदद से आप अच्छे सपने देख पाएंगे और बुरे सपनों से छुटकारा पा सकेंगे।  अमेरिकी वैज्ञानिकों ने इस तरह के उपकरण पर शोध शुरू कर दिया है।

संयुक्त राज्य अमेरिका में मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) के वैज्ञानिक एक ऐसा उपकरण विकसित कर रहे हैं जो सपनों को हैक कर सकता है।  जिसकी मदद से आप सपनों को हैक कर पाएंगे।  शोधकर्ता ने कहा कि हमारे जीवन का एक हिस्सा सपने देखने में बीता है।  अगर ये सपने नियंत्रित हो जाते हैं तो हमारा व्यक्तित्व और अधिक उज्ज्वल हो जाएगा।  साथ ही बुरे सपनों से बचा जा सकता है।  वहीं, शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि ऐसा करने से दिमागी शक्ति बढ़ेगी।

Read News In Gujarati


इस डिवाइस का नाम डोरिमो है, जिसे दस्ताने की तरह पहनना होता है।  इस डिवाइस में कई तरह के सेंसर होंगे।  डोरिमो नामक इस उपकरण से एक सोए हुए व्यक्ति की स्थिति का पता चल जाएगा कि वह जाग रहा है, सो रहा है या अवचेतन।  डिवाइस का परीक्षण अब तक 50 लोगों पर किया गया है।  इसी समय, डिवाइस में आवश्यक परिवर्तन हो रहे हैं।

जब मनुष्य चेतना और अर्ध-चेतना के बीच की अवस्था में होता है, तो उसे सम्मोहनिया के रूप में जाना जाता है।  यह डिवाइस उन छवियों और धारणाओं को नियंत्रित करने में मदद करता है जो हाइपानोगिया में सो रहे व्यक्ति के मस्तिष्क में बन रहे हैं।  यह वह अवस्था है जब मनुष्य के सपने होते हैं।  यह सम्मोहन की स्थिति में है कि आदमी घटनाओं को सुनता है, ध्वनियों को सुनता है और यहां तक ​​कि प्रकट भी होता है।

इस उपकरण के अंदर पहले से दर्ज संदेश होंगे।  डिवाइस का परीक्षण 50 लोगों पर किया गया था।  इन सभी लोगों के लिए एक शब्द का उच्चारण किया गया और फिर उपकरण की मदद से सभी लोगों के सपने देखने का तरीका, प्रभाव और बदलाव देखा गया।  फिर भी यह उपकरण प्रायोगिक आधार पर है।  पूरी तरह से तैयार होने में कुछ समय लगेगा।  यदि यह सफल रहा तो यह मानव जाति के लिए एक मील का पत्थर साबित होगा।

No comments:

Post a comment

Popular Posts